क्या आप जानते हैं कि ब्राम्हण होने के बावजूद भी जयललिता को दफनाया क्यों गया!

loading...

last-cover


बॉलीवुड की दुनिया से लोगों के दिल में राज करने वाली और तमिलनाडू के सीएम पद पर लगातार 6 बार रहने वाली और तमिल की जनता की अम्मा यानि जयललिता अब इस दुनिया को त्याग चुकी है। बीते दिनों में उनकी मृत्यु हो गई पर इन्हें भूलना किसी के लिए आसान नहीं है। तमिल की जनता हमेशा उन्हें अम्मा के रूप में याद करेगी, अम्मा द्वारा चलाई गई अनेक स्कीमों से लोगों को बहुत मदद मिली इसिलिए उन्हें अम्मा और उनका भगवान भी माना जाता हैं। खैर अब इस दुनिया को छोड़ गई है अम्मा यानि जयललिता जी।2

उनका देह्संस्कर, कर रहा है हैरान – अम्मा ब्राह्मण थी और हमारे समाज में जब भी किसी की मृत्यु होती है तो उसे दाग यानि उनके पार्थिव शरीर को जलाया जाता है। सोचने वाली बात है की अम्मा ब्राह्मण होते हुए भी उनके शरीर को दफनाया गया था। जब हमारी टीम ने इस बात पर गौर की तो हमें दो जबाव मिले।