ईडी नई किया मायावती के खजाने का भंडाफोड़, पकड़ा सैकड़ों करोड़ का रुपये कालाधन

loading...


नोटबंदी के बाद जिस तरह नेताओं के पास करोड़ों का रुपया मिल रहा है उससे एक बात साफ होती है की जनता को लुटने में नेताओं ने किसी भी तरह की कसर नहीं छोड़ी है। चाहे वो बीजेपी हो या कांग्रेस या फिर कोई और पार्टी, सभी पार्टियों ने जनता का पैसा खाया है और खाती आ रही है। मैं किसी भी पार्टी का सपोर्ट नहीं कर रहा हूँ क्योंकि मुझे आपको सच दिखाना है और वो आपको दिखाना चाहता हूँ।

मायावती के पास है करोड़ों का धन – अगर बात मायावती की कि जाए  तो एक बात साफ़ है की इनके पास धन की  कमी नहीं है। हाल ही में एक रिपोर्ट के अनुसार इनके पास 110 करोड़ रुपये होने का खुलासा हुआ है। यह खुलासा अभी भी जारी है क्योंकि नोटबंदी के बाद सभी नेताओ के पास पैसा कितना है सब ब्योरो मिडिया में आ रहा है। इतना ही नहीं मायवती के भाई आनंद कुमार के नाम से 1.43 करोड़ रुपये जमा किये गये है। यहाँ तक की सपा पार्टी के अकाउंट में 105 करोड़ रुपये जमा हुए है।

नोटबंदी के बाद हुआ इतना पैसा जमा – रिपोर्ट के अनुसार यह सारा पैसा नोटबंदी के बाद बैंक में जमा हुआ है यहाँ तक की कुछ पैसा अभी भी बाहर है। एक रिपोर्ट के अनुसार नोटबंदी के बाद गाड़ियों में लाखों करोड़ों की गड्डियाँ लाइ गई थी और बैंको में जमा करवाई गई थी।

7 बार में जमा किया 105 करोड़ रुपया – खबर के अनुसार नोटबंदी के बाद बैंक में पैसा 7 बारी में जमा करवाया गया और अलग अलग ब्योरो के साथ, इससे पता चलता है की मायावती जी के पास भी कालेधन की कमी नहीं थी।

आयकर विभाग से मिला नोटिस – जब आयकर विभाग ने इनके खाते चैक किये तो इन्हें नोटिस भेजा गया इस नोटिस मायावती के भाई आनंद ,मायावती और सपा पार्टी का नाम शामिल है। आयकर विभाग ने इन पैसों का ब्योरों माँगा है और यह साफ़ है की कुछ भी मायावती के पास इतने पैसे का कोई ब्योरो नहीं है।

आनंद कुमार पर है पहले से ही नजर – आयकर  विभाग की नजर आनंद कुमार पर नोटबंदी से पहले की है। क्योंकि उनके नाम बेनामी अनेक प्रोपर्टी रजिस्टर है और इसका ब्योरो उनसे पहले भी माँगा गया है। ऐसा लगता है की इस नोटिस के बाद सपा का सफाया होना तय है।