ब्रेकिंग- कालेधन मामले में 200 राजनीतिक पार्टियों को तगड़ा झटका, नहीं लड़ पाएंगी चुनाव

loading...


जैसे ही भारत में नोटबंदी लागू हुई पूरा भारत ही नहीं अनेक राजनिति पार्टियों के भी पसीने छुट गये। क्योंकि आप जानते हो की एक पार्टी को जितने के लिए क्या-क्या करना पड़ता है उन्हें लाखों नहीं करोड़ों रुपयों को बांटना पड़ता है। ऐसे में नरेंद्र मोदी ने जैसे ही नोटबंदी लागू की सब हैरान रह गये। हाल ही में मिली एक रिपोर्ट के अनुसार चुनाव आयोग 200 राजनैतिक पार्टियों के लाइसेंस रद्द कर रही है। चुनाव आयोग के अनुसार इन पार्टियों ने लाखों करोड़ो रुपयों का गबन किया है और जैसे ही नोटबंदी हुई इनका यह असली रूप सामने आ गया है।

कालेधन को सफेद बनाने के लिए बनाई गई अनेक पार्टियाँ – चुनाव आयोग के अनुसार कालेधन को सफेद करने के लिए ही अनेक राजनैतिक पार्टियों का गठन किया गया था। आयोग के अनुसार उनके पास ऐसी 200 पार्टियों के नाम हैं जो सिर्फ कालेधन को सफेद करने के लिए बनाई गई थी। अब इन पार्टियों का लाइसेसं रद्द कर दिया जाएगा। ऐसे में लगता है की अनेक पार्टियां बेहाल होने वाली हैं।

चंदे के पैसे का इस्तेमाल कहां होता था – इन पार्टियों का नाम चुनाव आयोग के पास है, और आयोग का कहना है की जब इन पार्टियों से चंदे के पैसों का ब्योरों माँगा गया तो कोई भी ब्योरो अभी तक उनके पास नहीं पहुंचा हैं। यहाँ तक की इन पार्टियों से कोई भी चुनाव नहीं लड़ा और ना ही कोई हलफनामा भरा गया।

सिर्फ पैसों की अदला बदली के लिए बनाई गई ऐसी पार्टियाँ – चुनाव आयोग के अनुसार यह सिर्फ पैसों की अदला बदली के लिए इन पार्टियों को बनाया गया था। यदि इन पार्टियों की जांच की जाए तो इन पार्टियों का कोई भी वजूद नहीं मिलता है। यहाँ तक की अनेक पार्टियाँ तो ऐसी है जिनका नाम भी नहीं जानते हैं कोई।

नहीं लड़ पाएंगी कोई चुनाव – नोटबंदी के बाद ऐसा होना किसी को भी परेशान कर सकता है। अब ऐसा लगता हैं की अनेक पार्टियाँ इसी कारण से चुनाव नहीं लड़ पाएगी। रिपोर्ट के अनुसार इन 200 पार्टियों को रद्द करने के बाद अनेक पार्टियां भी चुनाव नहीं लड़ पाएगी।